Tumhari Hi kami si hai (Hindi Shayri)

                                                        तुम्हारी कमी

मौसम भी खुश नुमा है तुम्हारी ही कमी सी है ,
शमाएँ भी फरोजां है तुम्हारी ही कमी सी है .
                                        सदा आती है कुछ ऐसी की जैसे पास में तुम हो ,
                                           परिंदों की कहकशां है तुम्हारी ही कमी सी है .
अगरचे दूर हूँ लेकिन तसव्वुर ही तुम्हारा है ,
मोहब्बत ही रहनुमा है तुम्हारी ही कमी सी है .
                                                 
कलम है हाथ में लेकिन तुम्हारी याद क्या लिखूं ,
                                                   जहन मेरा तो हेराँ है तुम्हारी ही कमी सी है .

मोहब्बत की थी क्यों इतनी जुदा जब रह नही सकते ,
क़ि अब अश्कों क़ि झाड़ियाँ है तुम्हारी ही कमी सी है .
                                                  तुम्हें कैसे बताऊँ किस तरह यादें सताती है ,
                                                  बिचारा दिल परीशां है तुम्हारी ही कमी सी है .
ऐ ''आमिर '' जिन्दगी अपनी बिना उनके अधूरी है ,
मिली चाहे ये दुनिया है तुम्हारी ही कमी सी है .


शब्द अर्थ :
१.खुश नुमा = सुहाना
२.शमाएँ = रोशनियाँ
३.फरोजां = रोशन
४.सदा = आवाज
५.कहकशां = चहचहाहट
६. तसव्वुर = ख़याल
७.रहनुमा = रास्ता दिखने वाला
८.कलम = पेन
९.जहन =दिमाग
१०.अश्क = आंसू

''आमिर दुबई ''

Info Tech Hindi 

SHARE THIS

Author:

Previous Post
Next Post
31 January 2013 at 13:17

मौसम भी खुश नुमा है
तुम्हारी ही कमी सी है ,
शमाएँ भी फरोजां है
तुम्हारी ही कमी सी है .
बहुत अच्छा .. कमी सचमेँ बहुत खलती है

Reply
avatar