Showing posts with label नगमाते आमिर. Show all posts
Showing posts with label नगमाते आमिर. Show all posts
Muskan (Hindi latest shayri Nazam,Gazal)

Muskan (Hindi latest shayri Nazam,Gazal)


                              मुस्कान 

जिन्दगी में वो हैं तो जीने में है लुत्फो सुरूर ,
गर नही वो साथ जीने का मज़ा कुछ भी नही .
                       हैं बड़े दिलकश नजारे दिल को जो माईल करें,
                       पर मेरी तनहाइयों में ये समा कुछ भी नही.
मै तेरी मुस्कान पर खुशियाँ भी अपनी वार दूँ ,
गर तू खुश है तो मेरे दिल का बयां कुछ भी नही.
                        इश्क में मेरे गिरे आंसू भी ना तेरा कभी,
                        यूँ समझना इश्क का नमो निशां कुछ भी नही.
आज अपने रास्ते भी खुद अलहदा हो चुके ,
फिर कहाँ मंजिल मिली क्या कारवां कुछ भी नही.
                         मिलने की तुझसे इजाजत इश्क ये देता नही ,
                          क्या करूँ मजबूर हूँ वरना यहाँ कुछ भी नही.
कुछ वकत गुजरा मोहब्बत में तो बाकि याद में ,
गर गुजर जाये तो फिर अरमाँ मेरा कुछ भी नही.
                         हर तरफ है खुश दिलों की शाम की रंगीं फिजां ,
                         दिलजलों की तो यहाँ बज्मे जहाँ कुछ भी नही.
हर तरफ मुस्कान है खुशियों में सब सरशार हैं ,
आशिकों की आँख के अश्के रवां कुछ भी नही .
                          याद में उनकी यूँ ही ''आमिर''गुजर जाएँ ये पल,
                           बस यही काफी है उम्मीदे जहाँ कुछ भी नही.
शब्द अर्थ :
१.लुत्फो सुरूर =मजा
२.दिलकश नजारे = दिल को छु जाने वाले मंजर
३.माईल = आकर्षित
४.समा = माहोल
५.नमो निशां = नाम और निशान
६.अलहदा = अलग
७.कारवां = लोगों का एक ग्रुप जो सफर करता है
८.इजाजत = आज्ञा
९.वकत = समय
१०.अरमा= तमन्ना
११.फिजां = हवा
१२.बज्म = महफ़िल
१३.सरशार = डूबे हुए
१४.अश्के रवां = बहते हुए आंसू
१५.उम्मीदे जहाँ =दुनियां में कोई उम्मीद का होना,जिसे पूरा होने का पूरा चांस हो.

''आमिर''दुबई.
Tumhari Hi kami si hai (Hindi Shayri)

Tumhari Hi kami si hai (Hindi Shayri)

                                                        तुम्हारी कमी

मौसम भी खुश नुमा है तुम्हारी ही कमी सी है ,
शमाएँ भी फरोजां है तुम्हारी ही कमी सी है .
                                        सदा आती है कुछ ऐसी की जैसे पास में तुम हो ,
                                           परिंदों की कहकशां है तुम्हारी ही कमी सी है .
अगरचे दूर हूँ लेकिन तसव्वुर ही तुम्हारा है ,
मोहब्बत ही रहनुमा है तुम्हारी ही कमी सी है .
                                                 
कलम है हाथ में लेकिन तुम्हारी याद क्या लिखूं ,
                                                   जहन मेरा तो हेराँ है तुम्हारी ही कमी सी है .

मोहब्बत की थी क्यों इतनी जुदा जब रह नही सकते ,
क़ि अब अश्कों क़ि झाड़ियाँ है तुम्हारी ही कमी सी है .
                                                  तुम्हें कैसे बताऊँ किस तरह यादें सताती है ,
                                                  बिचारा दिल परीशां है तुम्हारी ही कमी सी है .
ऐ ''आमिर '' जिन्दगी अपनी बिना उनके अधूरी है ,
मिली चाहे ये दुनिया है तुम्हारी ही कमी सी है .


शब्द अर्थ :
१.खुश नुमा = सुहाना
२.शमाएँ = रोशनियाँ
३.फरोजां = रोशन
४.सदा = आवाज
५.कहकशां = चहचहाहट
६. तसव्वुर = ख़याल
७.रहनुमा = रास्ता दिखने वाला
८.कलम = पेन
९.जहन =दिमाग
१०.अश्क = आंसू

''आमिर दुबई ''

Info Tech Hindi 
मै उनकी याद हूँ

मै उनकी याद हूँ


सुबह मेरी खिलेगी सिर्फ उनके मुस्कुराने से ,
मेरी तन्हाईयाँ मिट जाएँगी बस उनके आने से ,
                                  मेरी हर शाम क्या हर सांस बिना उनके अधूरी है ,
                                    कमी होगी पूरी मेरी उनके लौट आने से।
बिना उनके ना मै हूँ ना हैं कोई हसरतें मेरी ,
मै उनकी याद हूँ और खुश हूँ उनकी याद आने से।
                                 यहाँ सब कुछ है मेरे पास लेकिन फिर भी मै तन्हां ,
                                  मेरा दिल तो फकत लगता है उनके पास आने से।
यहाँ हूँ मै वहां है वो अधूरी जिन्दगी अपनी ,
नही फिर भी कोई शिकवा मुझे तो इस ज़माने से।
                                मेरी मजबूरियां तो देख पड़ा हूँ दूर मै उनसे ,
                                नही मै रोक सकता याद उनकी आने जाने से।
है कितना दर्द उनकी याद में और इश्क में ''आमिर ''
हुआ अहसास मुझे भी इश्क में उनके जल जाने से। 


                                       ''आमिर अली दुबई ,,

मोहब्बत को Install कर Delete ना कर

मोहब्बत को Install कर Delete ना कर


तुम्हारे प्यार को दिल में मै अपने Save कर लूँगा।
जुदाई को हमेशां के लिए Delete कर दूंगा।
                              ख्याल आये जो तेरे बाद किसी और का कभी ,
                               जहन को फिर से मै अपने यूँ ही Refresh कर लूँगा।
तुम्हारा प्यार कितना है मेरे दिल में दिखा दूंगा ,
अगर चाहो तो अपने दिल को मै Scan कर लूँगा।
                                 हमारा नाम अपने दिल में बस Insert कर लेना ,
                                 तेरी खातिर तो मै खुद को कभी Num Lock कर लूँगा।
करीब आओ मेरे दिल के तुम्हे खुशियाँ बड़ी दूंगा ,
तेरे हर गम को मै दिल से तुम्हारे Hack कर लूँगा।
                                    मेरी खातिर मेरी यादों को कभी Close ना करना ,
                                     तेरी हर बात को दिल में मै अपने Install कर लूँगा।
मुझे ना छोड़कर जाना कभी तन्हां इस System में ,
नही तो खुद को तेरे प्यार में Corrupt कर लूँगा।
                                       हमारी दोस्ती और प्यार को Start करके देख ,
                                       तेरी खातिर सभी की दोस्ती Turn Off कर दूंगा।
मेरी आँखों के Web Cam में फकत तू ही नज़र आये ,
तेरी खातिर जुदाई को भी मै Ctrl कर लूँगा।
                                         हमारे प्यार को फिर से कभी Rename देकर देख ,
                                         तेरे विश्वास को हर दम मै Save as कर लूँगा।
तू ''आमिर'' की मोहब्बत को सदा Turn On ही रखना ,
नही तो दिल से तेरे प्यार को Remove कर दूंगा। 

                                                          ''आमिर अली दुबई ,,  
दिल चाहता है

दिल चाहता है


हवा खुशनुमा वादियाँ भी हसीं हैं ,
तुझे याद करने को दिल चाहता है। 
                              मेरा आज सब दूरियों को मिटाकर ,
                              तेरे पास आने को दिल चाहता है।
ये तन्हाईयाँ रात भी चांदनी है ,
तेरे पास आने को दिल चाहता है। 
                               तुझे अपनी बाहों के घेरे में लेकर ,
                               कुछ सुनने सुनाने को दिल चाहता है।
वो नगमा जिसे सुनके तू मुस्कुराये ,
उसे गुनगुनाने को दिल चाहता है।
                                  मोहब्बत की सारी हदों को भुलाकर ,
                                  तुझे प्यार करने को दिल चाहता है।
सभी चाहतों के समंदर में ''आमिर ''
मेरा डूब जाने को दिल चाहता है।

                                                        ''आमिर अली दुबई ,,
आजादी का नाम है हम तो महंगाई में मर गये

आजादी का नाम है हम तो महंगाई में मर गये


देश की आजादी की खातिर कई भूख प्यास से मर गये ,
तो कितने सारे नवजवान जंग के मैदानों में मर गये। 
                                  अंग्रेज भारत को तोड़ने के अरमानो में मर गये ,
                                  अपनी नाकामियों के अफ्सानो में मर गये। 
देश आजाद हो गया सब खुशहाल हो गया ,
और शहीदाने वतन तलवारों में मर गये। 
                                     आज के नवजवान हैं करीना कैटरिना पे मर गये ,
                                     और कुछ आमिर सलमान और शाहरुख़ खान पे मर गये। 
एक देश का अन्ना है जो अनशन करता रहता है ,
एक तरफ ये नेता लोग भ्रस्टाचार में मर गये ,
                                     एक तरफ ये कांग्रेसी घोटाला घोटाला खेलते हैं ,
                                     दूसरी तरफ बीजेपी वाले पीएम पीएम में मर गये।
एक तरफ हिंदी फिल्मे करोड़ों रूपए कमाती हैं ,
दूसरी तरफ हम हिंदुस्तानी महंगाई से मर गये।
                                       हमारे नवजवान जो देश का भविष्य बनायेंगे ,
                                       आज देश के ये भविष्य चैटिंगों में मर गये।
पेट्रोल डीजल की कीमतों ने गाड़ियों को नाकारा किया ,
एक बेचारे रूपए हैं जो गिर गिर कर के मर गये। 
                                         बिजली की आँख मिचोली में गर्मी ने हाल ख़राब किया ,
                                         दूसरी तरफ पानी की किल्लत लोग प्यास से मर गये। 
ये कैसी आजादी है हमारा वतन पूछता है ,
उस सदी से ज्यादा लोग तो इस सदी में मर गये।     
                                         खाने पीने की कीमतों ने आँख में आंसू ला दिए ,
                                         गरीब अब भूख प्यास से नही कीमत सुनकर मर गये।
भ्रस्टाचार आतंकवाद बलात्कार अब आम हो गये ,
सरकार चलाने वाले अब तक शर्म से क्यूँ नही मर गये।
                                           आज अगर होते शहीदाने वतन इस दौर में ,
                                           कहते की हम क्यों इन बेकारों के लिए मर गये।
कहते हैं की आज के दिन हम आजाद हुए थे ,
आजादी का नाम है हम तो महंगाई में मर गये।
                                              है दुआ ''आमिर'' अमन कायम हो मेरे मुल्क में ,
                                             जिसकी आजादी की की खातिर लाखों लोग मर गये।



                                                          ''आमिर अली दुबई ,,

दिलकश फजाओं में तन्हाँ

दिलकश फजाओं में तन्हाँ


मोहब्बत ना सही लेकिन मेरे अहसास रहने दो,
मै लिखता हूँ तो लिखने दो मेरे जज़्बात रहने दो।
                                         वो चाहे इस जहाँ में मेहफिलों की रंगों रौनक हैं ,
                                         मुझे तनहाइयों के साए में ही फिर आज रहने दो।
वो सब वादे सभी कसमें सभी को साथ ले जाओ,
मेरी खातिर तो बस एक याद की सौगात रहने दो।
                                            तेरी यादों से रहता है हमारा दिल सदा आबाद ,
                                             हमे यादों के साए में यूँ ही आबाद रहने दो।
गुजरते थे कभी शामो सहर तेरी ही बाहों में 
मगर अब क्या कहें बस याद वो लम्हात रहने दो।
                                               नही पाता सहज खुद को क्या उनके सामने जाऊं,
                                                बड़ा मुश्किल से संभला हूँ मुझे आबाद रहने दो।
बड़ी दिलकश फिजाओं में हूँ मै ''आमिर'' मगर तन्हाँ 
मेरी तनहाइयों के संग तुम्हारी याद रहने दो।

Note : ( ये नज्मो ग़ज़ल सिर्फ लिखने की हद तक होते हैं। हु बा हु हकीकत से इनका कोई सम्बन्ध नही होता। अक्सर तन्हाई या तन्हां पसंदी पर लिखते रहने से कई लोग दुखी या परेशान समझने लगते हैं। लिखना सिर्फ एक शौक है, हकीकत में मै सभी के बीच ,और खुश दिली से रहता हूँ। रंजो गम या तन्हां पसंदी जैसी कोई बात नही है। ये सभी कई साल पहले के अहसासात हैं ,जिन्हें अब तक सहेज कर रखा है। और ज्यादातर नज्में भी उन दिनों ही लिखी थीं, ये और बात है की उन दिनों डायरी और कलम हुआ करते थे, जिनकी जगह आज कंप्यूटर ने ले ली है। )
                                                        
                                                    ''आमिर दुबई,, ''
                         
फुर्सत के कुछ लम्हात

फुर्सत के कुछ लम्हात

कुछ फुर्सत के लम्हात मिलें तो ,
खुद से भी मिल लेना।
लोगों से मिलते मिलते ,
कितना अरसा गुजर गया।
जिन्दगी की दौड़म भाग में ,
खुद को ही क्यूँ भुला दिया।
कभी किसी लम्हात में ,
खुद से भी मिल लेना।
शाम की ठंडी हवाएं ,और मौसम की फिजायें ,
अक्सर तेरी तन्हाई को याद करती हैं।
वक्त की रफ़्तार में कुछ लम्हात रुक जाते ,
दो घडी ही सही दिल को चैन आ जाता।
कितने जख्म खाए हैं ,
कभी इनको भी गिन लेना।
कभी किसी लम्हात में ,
कभी खुद से भी मिल लेना।
रात दिन की मश्गुलियत ,
और रफ़्तार को देख कर ,
तेरा पुराना कलम बेचारा ,
आज तक मायूस है। 
कभी फुर्सत में बैठकर इससे ,
कुछ अशआर ही लिख लेना। 
कितने इमेल्स तरस रहे हैं ,
जवाब के इन्तजार में ,
कभी इनको भी पढ़ लेना ,
और इनके जवाब भी लेख लेना।
रिश्ते याद करते हैं ,और दोस्त फरयाद करते हैं ,
कभी फुर्सत जो मिल जाये ,तो इनसे बात कर लेना।
खाने पिने का टाइम नही ,
सोने को आराम नही ,
जाने कैसी रफ़्तार है ,
कुछ लम्हात ही जी लेना।
किसी का लिखा पढ़ लेता ,
कभी खुद भी कुछ लिख लेता,
फुर्सत निकाल कर आमिर ,
कुछ आराम भी लेना।

दिनचर्या इतनी ज्यादा मशगूल हो गयी है ,ना किसी की पोस्ट पढने का समय मिलता है ,ना कुछ लिखने का समय मिलता है।ना एमैल्स के जवाब दे पा रहा हूँ। ना ही खुद कुछ लिख पा रहा हूँ। कुछ माह ऐसे ही गुजरने हैं। फिर शायद फुर्सत के लम्हात होंगे ,और कलम हाथ में होगा ,फिर जितना लिखना है लिखेंगे। और हर एक की पोस्ट्स पर हाजिर होंगे। चंद घड़ियाँ मिली थीं ,इस पोस्ट को लिखने में गुजार दी।कुछ और लम्हात मिलेंगे ,कुछ और लिख कर हाजिरी देते रहेंगे। ये इस तरह की मेरी पहली रचना है। इससे पहले कभी सिवाय नज्मो ग़ज़ल के रचना नही लिखी। दुआ करें की समय में कुछ बरकत हो जाये। ये रचना मैंने अपने लिए लिखी है। 

                                                          ''आमिर अली दुबई ,..
हिंदुस्तानी अवाम

हिंदुस्तानी अवाम


दिलाई जिन्होंने आजादी वो देश के नवजवान थे,
आज के भारत को देखा की कुछ हिन्दू कुछ मुसलमान थे।
                               धर्म के नाम पर आज सियासत किस कदर है हो रही ,
                               ये भी भुला दिया गया की हम हिंदुस्तानी अवाम थे।
आज धर्म के नाम पर मेरे देश को बाँट कर रख दिया ,
फूट डाल कर राज करने वाले अंग्रेजी शैतान थे।
                                बहुत ही ज्यादा आहत हूँ मै हिन्दू मुस्लिम निति पर ,
                                वर्ना भारत की संस्क्रती में सर्व धर्म सम्मान थे। 
आज हमारे भारत में तो हिन्दू मुसलमान हैं ,
वर्ना यहीं पर बसने वाले हिंदुस्तानी महान थे।
                                 सेक्युलर भारत बने ,और सभी का सम्मान हो ,
                                 आजादी में लड़ने वालों के बस यही अरमान थे।
पूछा मैंने शहीदों से तुम हिन्दू थे या मुसलमान थे ,
उनकी रूह से आवाज आई ''आमिर'' हम इंसान थे।


हिन्दुस्तानी अवाम के लिए मेरा यही सन्देश है की आपकी एकता ही आपकी ताकत है। जिस दिन आपकी एकता तो नज़र लग गयी उस दिन आपकी ताकत ख़त्म हो जाएगी। इसलिए धर्म के नाम पर देश के टुकड़े करने वालों का कभी भी साथ ना दें। चाहे वो किसी भी दल से हों।


कशमकश

कशमकश


कहना तो चाहता था बहुत कुछ हमारा दिल ,
ना लिख सका है ख़त में ना ही बता सका.
                   यादों का सिलसिला तो यूँ बढ़ता चला गया ,
                   ना रोक सका मै कभी ना ही घटा सका.
तुझको ही भुलाने को मै परदेस आ गया,
ना दिल लगा सका हूँ ना तुझको भुला सका.
                   वो छोड़कर गया तो गया आज तक कभी,
                   ना खुद ही आ सका है ना मुझको बुला सका.
आता अगर बुलाते तो मै लौटकर सनम,
ना मै ही आ सका हूँ ना तू ही बुला सका.
                   ये मर्ज़ इश्क का मुझे हर दम लगा रहा,
                  ना चैन पा सका हूँ ना इसको दबा सका.
करता रहा कोशिश तुम्हे पाने की मै लेकिन ,
ना तुझको पा सका हूँ ना खुद को ही पा सका.
                   तन्हाईयाँ मिटाने को महफ़िल में आ गया,
                  पर क्या करूं खुद को यहाँ तनहा ही पा सका.
तन्हाइयों की आदतें ना जाये जा सकीं ,
बहला सका हूँ खुद को ना महफ़िल में जा सका.
                   होकर जुदा तुझसे मेरी हालत वही रही ,
                   ना रात कट सकी है ना दिन ही बिता सका.
लिखता रहा नगमात मै यादों को याद कर,
ना लिख सका हूँ याद को ना ही मिटा सका.
                     हर दिन तुम्हारी याद में ये कशमकश रही ,
                     ना याद कर सका हूँ ना तुझको भुला सका.
अक्सर यूँ ही फुर्सत में यही सोचता रहा,
ना साथ तेरा चाहकर ''आमिर'' निभा सका.

शब्द अर्थ : 
१.मर्ज़ - बीमारी 
२.तन्हाईयाँ - अकेलापन 
३.महफ़िल - पार्टी ,जहाँ पर लोगों की रौनक हो.
४.कशमकश - उलझन में रहना की यहाँ जाऊं की वहां जाऊं.
५.अक्सर - ज्यादातर 
६.फुर्सत - फ्री टाइम 
७.कलाम - लेखन 
८.कलम - पेन 
९.आगाज़ -शुरुआत 
१०.जज्बात - भावनाएं 


5 साल के बाद जब कलम उठाया : 
लिखना छोड़े हुए काफी अरसा गुजर गया था.दोस्तों ने इन नगमात को पोस्ट्स और इमेल्स के जरिये पढ़ा ,तो कईयों ने इमेल्स के जरिये यही फरमाइश की की आप दुबारा कलम थाम लें.फिर फरमाइशों पर फरमाइशें आने लगी की आप दुबारा लिखना शुरू कर दें.शायद उनको पहले के लिखे हुए ये नगमात काफी ज्यादा पसंद आने लगे थे.तो मैंने इन सबका दिल रखने के लिए 21 अप्रेल 2012 को दुबारा कलम उठाया ,और लिखना शुरू किया.तो सबसे पहले ये कलाम जो उपर लिखा है, इसे लिख कर आगाज़ किया.इसके बाद एक नज्म और लिखी.
इतने साल कुछ इस तरह से गुजरे की कलम को कभी साथ भी नही रखा.इरादा यही किया था की आइन्दा नही लिखूंगा.लेकिन इन दोस्तों के प्यार और स्नेह ने दुबारा कलम हाथ में उठाने को मजबूर कर दिया.जिस तरह जज्बात कभी ख़त्म नही होते उसी तरह कलाम भी कभी खत्म नही होते.ये नज्म मै उन सबको समर्पित करता हूँ जो मेरे नगमात को पसंद करते हैं.और मुझे लिखने के लिए प्रेरित करते हैं.आप मुझे इमेल्स भी कर सकते हैं.और निचे दिए गये कमेन्ट बॉक्स में अपने मशवरे भी दे सकते हैं.  

                                                  आपका ''आमिर '' दुबई 
मुन्तजिर........

मुन्तजिर........

दिले मजबूर से प्यार उनका भुलाया ना गया,
लाख चाहकर भी तसव्वुर से हटाया ना गया.
                         लिखा है दिल पे इस तरह से हमने नाम उनका ,
                         हजारों अश्क बहाकर भी मिटाया ना गया.
किया है प्यार तो हर शय से भी ज्यादा उनको ,
क्यूँ चाहकर भी उन्हें हमसे बताया ना गया.
                           बड़े अरमान से राहें तेरी तकता ही रहा ,
                           मै मुन्तजिर रहा तुमसे कभी आया ना गया.
हुए मायूस और रुसवा तेरी राहों में सनम ,
की लौटकर तेरी गलियों में भी जाया ना गया.
                             वफा की राह में कुछ ऐसे डगमगाए कदम ,
                            गिरे संभल के ज़माने से गिराया ना गया.
हुए वो वादे इरादे भी सब रुसवा ऐसे ,
जिन्हें करके भी हमसे तुमसे निभाया ना गया.
                               किये अज्कार हर तरह के यूँ घंटों हमने ,
                               मगर जबाँ से उनका जिक्र छुपाया ना गया.
हमे वो छोडके अब गैर के होकर के रहे ,
यकीन मुझसे मेरे दिल को दिलाया ना गया.
                                 मिले हजारों महजबीं हमे ज़माने में ,
                                 सिवा उनके किसी को दिल में बसाया ना गया.
दिले मजबूर ने कितना उन्हें चाहा ''आमिर''
फकत एक चीर कर दिल उनको दिखाया ना गया.

शब्द अर्थ : 
१.तसव्वुर - जागती आँखों का सपना
२.अश्क - आंसू
३.शय - चीज
४.मुन्तजिर - इन्तजार करने वाला
५.रुसवा - शर्मसार
६.अज्कार - जिक्र
७.महजबीं - हसीन
८.फकत - सिर्फ
''आपको ये पोस्ट कैसी लगी ? अपनी राय निचे कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.और अगर आपको मोहब्बत नामा ब्लॉग पसंद आई ,तो आज ही ज्वाइन कर लीजिये ,और इमेल्स के जरिये नई पोस्ट्स प्राप्त कीजिये.

कलम अज : ''आमिर दुबई..,,,,                       
नया साल तेरे बिन

नया साल तेरे बिन


इक और नया साल फिर आया है तेरे बिन ,
खुशियों का एक पैगाम फिर लाया है तेरे बिन।
                         सोचा था की हर साल तेरे साथ ही होगा,
                        लेकिन तेरी कमी का ही साया है तेरे बिन।
बस तू ही थी खुशियाँ मेरी और तू ही गम मेरा,
ना तुझसे बरी खुद को कभी पाया है तेरे बिन। 
                         है तो ख़ुशी की एक नया साल फिर मिला ,
                        लेकिन एक और साल फिर आया है तेरे बिन।
सुबह से मुस्कुरा के सभी से मिला मगर ,
दिल में वही तन्हाई का साया है तेरे बिन।
                          है आज नए साल की रौनक की रौशनी,
                         दिल का चराग हमने भी जलाया है तेरे बिन।
कहना सबा उनको भी नया साल मुबारक ,
''आमिर'' ने भी है जश्न मनाया है तेरे बिन।

                                 मेरी तरफ से आप सभी को नया साल खूब खूब मुबारक। 
                                                          ''आमिर अली दुबई ...
रास्तों के निशाँ

रास्तों के निशाँ


यूँ ही चलते चलते मै पहुंचा यहाँ ,
ना मंजिल मिली ना मिला कारवाँ .
              बहुत दूर आकर के मै खो गया ,
              नही मिल सके रास्तों के निशाँ.
थे कुछ रास्ते जाने पहचाने मेरे ,
नजर आ सके ना दुबारा यहाँ .
               सुनी आहटें हमने तनहाइयों में ,
               मगर चुप थी जाने क्यूँ मेरी जुबाँ.
तुम्हे पा सके ना मोहब्बत तुम्हारी ,
मुकद्दर में थी ऐसी रुस्वाइयाँ .
                 फकत हमने मांगी मोहब्बत तुम्हारी,
                 मिली जाने क्यूँ हमको तन्हाईयाँ .
चले आये हैं तेरी गलियों में शायद,
मिले तेरे कदमो का कोई निशाँ.
                 जो वादे मै करके निभा ना सका ,
                  समझना उन्हें मेरी मजबूरियाँ.
सुनी जो कभी तुमने मेरी सदाएँ,
वो थी मेरी खामोश खामोशियाँ.
                  जिसे तुम समझ कर समझ ना सकोगे ,
                  वो है नज्म की मेरी गहराइयाँ .
समझना था ''आमिर''बड़ा बेवफा ,
समझ ना सका तेरी मजबूरियाँ.

शब्द अर्थ :
१.कारवाँ - काफिला जो सफ़र करता है.
२.आहटें - सरसराहट
३.मुकद्दर - किस्मत
४.रुस्वाइयाँ -ना उम्मिदियाँ
५.तनहाइयाँ -अकेलापन
६.सदा -आवाज

                                                    कलाम अज : ''आमिर दुबई ''

ये ब्लॉग आपको भी पसंद आई ? अगर हाँ तो आज ही ज्वाइन कीजिये.और इमेल्स के जरिये पोस्ट्स हासिल कीजिये. 
पछतावा

पछतावा

आज मैंने किसी को राह में चलता देखा,
कदम वही थे जिन्हें साथ में चलता देखा।
                      जो कभी साथ छोड़ कर मेरा तन्हां थे चले ,
                      किसी के साथ उन्हें आज अफसुर्दा देखा।
जो किसी और की खातिर हुए थे बैगाने ,
उन्हें अपने लिए फिर आज तरसता देखा।
                       कभी रुलाया था जिसने हमे जुदाई में ,
                       आज उनकी ही उन आँखों को बरसता देखा।
कभी जुदाई की जिस आग में था मै झुलसा ,
उसी जुदाई में आज उनको भी जलता देखा।
                       मेरी तनहाइयों पे जिनको भी आती थी हंसी ,
                       वक्त की बात है,आज उनको भी तन्हां देखा।
हमे ठुकराके चले थे वो राहे उल्फत में ,
उन्ही आँखों में आज अश्क का दरिया देखा।
                        मैंने जिनसे भी पूछा हाल तेरा जब भी कभी ,
                        सभी से ये सुना आहें तुम्हे भरता देखा।
जिन्दगी का सफ़र कितना अजीब है '' आमिर ''
कभी गिरता तो कभी खुद को संभालता देखा।



''आपको ये पोस्ट कैसी लगी ? अपनी राय निचे कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.और अगर आपको मोहब्बत नामा ब्लॉग पसंद आई ,तो आज ही ज्वाइन कर लीजिये ,और इमेल्स के जरिये नई पोस्ट्स प्राप्त कीजिये.

                                      ''आमिर दुबई.,,,
मेरे करीब आकर

मेरे करीब आकर

जगा दे ख्वाब से मुझको मेरे करीब आकर ,
दिखा दे फिर से वो जलवा मेरे करीब आकर।
                                 है मेरी सांस में कितनी तपिश जरा महसूस तो कर,
                                 यूँ छु ले दिल मेरा एक दिन मेरे करीब आकर।
है मेरे दिल में छुपे कितने ही खामोश ये राज ,
तू जान ले कभी मुझको मेरे करीब आकर।
                                  ना इतना दूर कर की लौटकर भी आ ना सकूं ,
                                  यूँ मुझ पे जुल्म ना कर तू मेरे करीब आकर।
क्यूँ इतने साल तक आंसू मेरे बहते ही रहे ,
जरा तू जान ले एक दिन मेरे करीब आकर।
                                  जब भी लिखता हूँ मै लिखते ही चला जाता हूँ ,
                                  घेर लेते हैं यूँ अलफ़ाज़ मेरे करीब आकर।
कभी जाना की जुदाई है किस बला का नाम ?
मेरी तनहाइयों से पूछ मेरे करीब आकर।
                                  बुझी बुझी सी हैं ये शाम और दिन भी तन्हां,
                                   किया परदेश ने क्या हाल मेरे करीब आकर।
हम तो सबके थे मगर कोई हमारा ना हुआ ,
सब मुझे देख कर चले मेरे करीब आकर।
                                    मै क्यूँ जलता हूँ ऐ ''आमिर'' यूँ उनकी यादों में ,
                                     कोई बताये किसी दिन मेरे करीब आकर।

 शब्द अर्थ :
1.तपिश -गर्माहट 
2.अलफ़ाज़ - शब्द 
3.जलना - यहाँ इसका  बनता है दिल जलाना 

''आपको ये पोस्ट कैसी लगी ? अपनी राय निचे कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.और अगर आपको मोहब्बत नामा ब्लॉग पसंद आई ,तो आज ही ज्वाइन कर लीजिये ,और इमेल्स के जरिये नई पोस्ट्स प्राप्त कीजिये.

                                                         ''आमिर दुबई.,,,
 तलबगार

तलबगार

आखिरी दीदार का मंज़र अजीब था ,
रोता ही रहा उस घडी जारो कतार मै।
                      बिछड़े हुए तो आज बहुत साल हो चुके, 
                      अब तक भी हूँ तन्हाई में क्यूँ अश्कबार मै।
तुझको ही भूलने को मै परदेश आ गया ,
लगता नही था दिल मेरा उजड़े दियार में।
                       सोचा था तेरा नाम भी लूँगा नही कभी ,
                      फिर भी तुझे लिखता रहा क्यूँ बार बार मै।
अक्सर वो मुझे याद कर ये सोचते रहे ,
क्यूँ आ ना सका लौटकर भी एक बार मै। 
                         कांटे मिले तो क्या थे मोहब्बत के यही फूल ,
                         तनहाइयों में भी रहा बागो बहार में।
पहुँचाने को जज़्बात को लिखे थे ख़त बड़े ,
सब रह गये पड़े किसी गर्दो गुबार में।
                           गलियों से उनकी तेरा गुजर जब हो ऐ हवा ,
                            कहना की हूँ परदेश में भी बेक़रार मै। 
दीदार से जिनके कभी मिलता था तबस्सुम ,
क्यूँ आज उनको देख कर हूँ अश्कबार मै। 
                             है दिल में आरजू की उनका सामना ना हो ,
                              वो आ ही गये सामने राहे मतार में।
कहने को बचा क्या की जब बैगाना ही कहा ,
जैसे नही अपना कोई लाखों हजार में। 
                               देखा जो उन्हें दिल ने मुझे ये कहा ''आमिर''
                               ये वो हैं की जिनका था कभी तलबगार मै। 

शब्द अर्थ 
1.जारो कतार - फूट फूट कर 
2.अश्कबार - आँखों में आंसू लिए 
3.दियार - बस्ती 
4.गर्दो गुबार- रेत या मिटटी 
5. तबस्सुम - मुस्कुराहट 
6.राहे मतार - एयरपोर्ट का रास्ता 
7.तलबगार - मांगने वाला 


''आपको ये पोस्ट कैसी लगी ? अपनी राय निचे कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.और अगर आपको मोहब्बत नामा ब्लॉग पसंद आई ,तो आज ही ज्वाइन कर लीजिये ,और इमेल्स के जरिये नई पोस्ट्स प्राप्त कीजिये.

                                                                  ''आमिर दुबई.,,,
अमानत

अमानत


 तड़पता रहा हर घडी तेरी खातिर ,
मगर तुमने मुझसे मोहब्बत नही की.
                  इसे तुम वफा ही समझना मेरी ,
                  किसी से तुम्हारी शिकायत नही की.
रहा देखता मै कई देर तुमको ,
तवज्जोह की तुमने इनायत नही की.
                  मिटाऊं मै कैसे तेरा नाम दिल से ,
                  कलम आम से तो लिखावट नही की.
बहुत कुछ मै कहना तुम्हे चाहता था,
मगर बात मेरी समांअत  नही की.
                   किया प्यार सच्चा फकत हमने तुमसे ,
                                                                    मेरे यार हमने शरारत नही की.
तुम्हे चाहकर कुछ ना चाहा कभी भी,
किसी ने हमारी शफाअत नही की.
                  तुम्हे पा तो सकता था हर हाल में मै ,
                  जमाने से हमने बगावत नही की.
की हमने तो ख्वाहिश तेरे प्यार की ही ,
सनम आरजुए हुकूमत नही की.
                   मोहब्बत में तेरी मै दे देता जां भी ,
                   मगर इसकी रब ने इजाजत नही की.
हमे छोड़कर तुम हुए गैर के अब ,
मेरे यार तुमने शराफत नही की.
                    मै लिखता रहा अपने जज्बात लेकिन ,
                     बयां अब तलक भी हकीकत नही की.
अमानत है ''आमिर''फकत तेरा जाना ,
किसी ने भी इसमें खियानत नही की.

शब्द अर्थ :
१.तवज्जोह - ध्यान
२.इनायत - क्रपा
३.आम - नॉर्मली
४.समांअत - सुनना
५.शरारत - मसखरी
६.शफाअत- सिफारिश
७.हुकूमत -सरकार
८.इजाजत - पर्मिशन

कलम अज : ''आमिर दुबई''
मै तन्हाँ पसंद हूँ

मै तन्हाँ पसंद हूँ


इक मुद्दते दराज़ से तन्हाँ पसंद हूँ ,
तन्हाई मेरा घर है मै तन्हाँ पसंद हूँ.
                       तन्हाई के माहौल में लगता है दिल मेरा ,
                       सच ही कहा किसी ने मै तन्हाँ पसंद हूँ.
घुटता है दम मेरा तो इन लोगों की भीड़ में ,
छोड़ो मुझे तन्हां की मै तन्हाँ पसंद हूँ.
                        यारों की महफिलों में भी सबसे अलग थलग ,
                        होता हूँ एक कोने में की तन्हाँ पसंद हूँ.
एक एक करके छोड़ कर सब दोस्त चल दिए ,
कहते हैं मुझमे ऐब है तन्हाँ पसंद हूँ.
                          बरसों हुए मिलने कभी आया नही कोई ,
                          शायद ये सोचकर की मै तन्हाँ पसंद हूँ.
हम भी कभी होते थे यूँ सब में घिरे हुए ,
तब कैफियत ना थी ये की तन्हाँ पसंद हूँ.
                            जब तुम थे मेरे साथ मै आबाद था हर दम ,
                            छुटा है जबसे साथ मै तन्हाँ पसंद हूँ.
पूछा किसी ने कौन हो रहते हो तुम कहाँ ?
मैंने कहा तन्हाई हूँ ,तन्हाँ पसंद हूँ.
                              मेरा है क्या अपनाये या ठुकराए कोई भी ,
                              ना फर्क है कोई भी मै तन्हाँ पसंद हूँ.
मिलता नही किसी से की हो जाऊंगा जुदा ,
इस खौफ से की मै बड़ा तन्हाँ पसंद हूँ.
                              खोटा हूँ खरा हूँ कोई कीमत नही मेरी ,
                               हूँ एक बे कीमत की मै तन्हाँ पसंद हूँ.
लोगों की महफिलों से मुझे ले चलो ''आमिर ''
 तन्हाई की महफ़िल में मै तन्हां पसंद हूँ.



शब्द अर्थ 
1 .मुद्दते दराज़ = लम्बे समय से 
2 .तन्हाई = अकेलापन 
3 .ऐब = बुराई
4 .कैफियत = हाल 
5 .खौफ = डर 
6 .खोटा = जो कहीं ना चले 
7 .खरा = जो कुछ भी बोल डाले 
8 .बे कीमत = जिसकी कोई कीमत ना हो.

''आपको ये पोस्ट कैसी लगी ? अपनी राय निचे कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.और अगर आपको मोहब्बत नामा ब्लॉग पसंद आई ,तो आज ही ज्वाइन कर लीजिये ,और इमेल्स के जरिये नई पोस्ट्स प्राप्त कीजिये.

                                                            ''आमिर दुबई.,,,
आखिरी लम्हात

आखिरी लम्हात


जिन्दगी भर साथ निभा जाते तो अच्छा था ,
दिखने के लिए ही सही अपना जाते तो अच्छा था.
                            ख्वाब अधूरे ही रहे हकीकत तो कुछ और ही थी ,
                            काश हकीकत को अगर समझ जाते तो अच्छा था.
मंजिलें तो एक ही थीं ,थोडा सा और रुक जाते ,
हम दोनों के रास्ते भी मिल जाते तो अच्छा था.
                            यादों को भुलाने को परदेस में तो आ गये ,
                            काश की इन यादों को भूल जाते तो अच्छा था.
इतने करीब आये थे की बस थोड़ी सी दूरी थी ,
इस दूरी को भी अगर मिटा जाते तो अच्छा था.
                             जिन्दगी तो गुज़र गयी तुम्हारे इन्तजार में ,
                             आखिरी लम्हात थे ,आ जाते तो अच्छा था.
कितने अरसे बाद फिर आया हूँ तेरी राहों में ,
भूले भटके ही अगर तुम आ जाते तो अच्छा था.
                              फुर्सत के इन लम्हात में यादें तेरी लिखता रहा ,
                              मेरे जज़्बात को पढने ही आ जाते तो अच्छा था.
आज फिर तन्हाईयाँ ,क्या ही ख्याल आया मुझे ,
साथ किसी दोस्त का ही पा जाते तो अच्छा था.
                               मेरे सब ''नग्माते आमिर ''मेरे ही जज़्बात थे ,
                               आप सब पढ़कर इन्हें समझ जाते तो अच्छा था.
काश की ''आमिर ''ये सब ख्वाब होते कांच के ,
टूट कर एक बार ही बिखर जाते तो अच्छा था.


 ''आपको ये पोस्ट कैसी लगी ? अपनी राय निचे कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.और अगर आपको मोहब्बत नामा ब्लॉग पसंद आई ,तो आज ही ज्वाइन कर लीजिये ,और इमेल्स के जरिये नई पोस्ट्स प्राप्त कीजिये.

                                                           ''आमिर दुबई.,,,  

तुम्हारी याद अब तक भी

तुम्हारी याद अब तक भी


तेरी यादें में खो जाता हूँ जाने क्यूँ मै अब तक भी ,
चला जाता हूँ मांझी में न जाने क्यूँ मै अब तक भी.
                      बहुत अरसा हुआ तुझसे जुदा होकर भी जाने क्यूँ ,
                      तड़प जाता हूँ अक्सर फिर ना जाने क्यूँ मै अब तक भी.
ख्यालों में तो अब तक भी चली आती हो तुम अक्सर ,
कभी खो जाता हूँ तेरे ख्यालों में मै अब तक भी.
                      न जाने कब तुम्हारा गम हमारा साथ छोड़ेगा ,
                      बहुत अरसा हुआ तनहा ही रहता हूँ मै अब तक भी.
दिले नादाँ है की अब तक भी ना माना मनाया भी ,
इसे बहलाता रहता हूँ ना जाने क्यूँ मै अब तक भी.
                       ये मै भी जानता हूँ की तुम्हे अब पा ही सकता ,
                       मगर दिल है की ना माना ज़माने से यूँ अब तक भी.
मुझे अब छोड़ दो हालात पर मेरे रहम खाओ ,
ना आओ दिल जलाने को ख्यालों में यूँ अब तक भी.
                       हुआ क्या आज फिर ''आमिर''उन्ही तनहाइयों में है ,
                        ना छोड़ा आदते तन्हाई ने जाने क्यूँ अब तक भी.


''आपको ये पोस्ट कैसी लगी ? अपनी राय निचे कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.और अगर आपको मोहब्बत नामा ब्लॉग पसंद आई ,तो आज ही ज्वाइन कर लीजिये ,और इमेल्स के जरिये नई पोस्ट्स प्राप्त कीजिये.

                               ''आमिर दुबई.,,,