Showing posts with label नगमाते आमिर. Show all posts
Showing posts with label नगमाते आमिर. Show all posts
Muskan (Hindi latest shayri Nazam,Gazal)

Muskan (Hindi latest shayri Nazam,Gazal)


                              मुस्कान 

जिन्दगी में वो हैं तो जीने में है लुत्फो सुरूर ,
गर नही वो साथ जीने का मज़ा कुछ भी नही .
                       हैं बड़े दिलकश नजारे दिल को जो माईल करें,
                       पर मेरी तनहाइयों में ये समा कुछ भी नही.
मै तेरी मुस्कान पर खुशियाँ भी अपनी वार दूँ ,
गर तू खुश है तो मेरे दिल का बयां कुछ भी नही.
                        इश्क में मेरे गिरे आंसू भी ना तेरा कभी,
                        यूँ समझना इश्क का नमो निशां कुछ भी नही.
आज अपने रास्ते भी खुद अलहदा हो चुके ,
फिर कहाँ मंजिल मिली क्या कारवां कुछ भी नही.
                         मिलने की तुझसे इजाजत इश्क ये देता नही ,
                          क्या करूँ मजबूर हूँ वरना यहाँ कुछ भी नही.
कुछ वकत गुजरा मोहब्बत में तो बाकि याद में ,
गर गुजर जाये तो फिर अरमाँ मेरा कुछ भी नही.
                         हर तरफ है खुश दिलों की शाम की रंगीं फिजां ,
                         दिलजलों की तो यहाँ बज्मे जहाँ कुछ भी नही.
हर तरफ मुस्कान है खुशियों में सब सरशार हैं ,
आशिकों की आँख के अश्के रवां कुछ भी नही .
                          याद में उनकी यूँ ही ''आमिर''गुजर जाएँ ये पल,
                           बस यही काफी है उम्मीदे जहाँ कुछ भी नही.
शब्द अर्थ :
१.लुत्फो सुरूर =मजा
२.दिलकश नजारे = दिल को छु जाने वाले मंजर
३.माईल = आकर्षित
४.समा = माहोल
५.नमो निशां = नाम और निशान
६.अलहदा = अलग
७.कारवां = लोगों का एक ग्रुप जो सफर करता है
८.इजाजत = आज्ञा
९.वकत = समय
१०.अरमा= तमन्ना
११.फिजां = हवा
१२.बज्म = महफ़िल
१३.सरशार = डूबे हुए
१४.अश्के रवां = बहते हुए आंसू
१५.उम्मीदे जहाँ =दुनियां में कोई उम्मीद का होना,जिसे पूरा होने का पूरा चांस हो.

''आमिर''दुबई.
Tumhari Hi kami si hai (Hindi Shayri)

Tumhari Hi kami si hai (Hindi Shayri)

                                                        तुम्हारी कमी

मौसम भी खुश नुमा है तुम्हारी ही कमी सी है ,
शमाएँ भी फरोजां है तुम्हारी ही कमी सी है .
                                        सदा आती है कुछ ऐसी की जैसे पास में तुम हो ,
                                           परिंदों की कहकशां है तुम्हारी ही कमी सी है .
अगरचे दूर हूँ लेकिन तसव्वुर ही तुम्हारा है ,
मोहब्बत ही रहनुमा है तुम्हारी ही कमी सी है .
                                                 
कलम है हाथ में लेकिन तुम्हारी याद क्या लिखूं ,
                                                   जहन मेरा तो हेराँ है तुम्हारी ही कमी सी है .

मोहब्बत की थी क्यों इतनी जुदा जब रह नही सकते ,
क़ि अब अश्कों क़ि झाड़ियाँ है तुम्हारी ही कमी सी है .
                                                  तुम्हें कैसे बताऊँ किस तरह यादें सताती है ,
                                                  बिचारा दिल परीशां है तुम्हारी ही कमी सी है .
ऐ ''आमिर '' जिन्दगी अपनी बिना उनके अधूरी है ,
मिली चाहे ये दुनिया है तुम्हारी ही कमी सी है .


शब्द अर्थ :
१.खुश नुमा = सुहाना
२.शमाएँ = रोशनियाँ
३.फरोजां = रोशन
४.सदा = आवाज
५.कहकशां = चहचहाहट
६. तसव्वुर = ख़याल
७.रहनुमा = रास्ता दिखने वाला
८.कलम = पेन
९.जहन =दिमाग
१०.अश्क = आंसू

''आमिर दुबई ''

Info Tech Hindi 
मै उनकी याद हूँ

मै उनकी याद हूँ


सुबह मेरी खिलेगी सिर्फ उनके मुस्कुराने से ,
मेरी तन्हाईयाँ मिट जाएँगी बस उनके आने से ,
                                  मेरी हर शाम क्या हर सांस बिना उनके अधूरी है ,
                                    कमी होगी पूरी मेरी उनके लौट आने से।
बिना उनके ना मै हूँ ना हैं कोई हसरतें मेरी ,
मै उनकी याद हूँ और खुश हूँ उनकी याद आने से।
                                 यहाँ सब कुछ है मेरे पास लेकिन फिर भी मै तन्हां ,
                                  मेरा दिल तो फकत लगता है उनके पास आने से।
यहाँ हूँ मै वहां है वो अधूरी जिन्दगी अपनी ,
नही फिर भी कोई शिकवा मुझे तो इस ज़माने से।
                                मेरी मजबूरियां तो देख पड़ा हूँ दूर मै उनसे ,
                                नही मै रोक सकता याद उनकी आने जाने से।
है कितना दर्द उनकी याद में और इश्क में ''आमिर ''
हुआ अहसास मुझे भी इश्क में उनके जल जाने से। 


                                       ''आमिर अली दुबई ,,

मोहब्बत को Install कर Delete ना कर

मोहब्बत को Install कर Delete ना कर


तुम्हारे प्यार को दिल में मै अपने Save कर लूँगा।
जुदाई को हमेशां के लिए Delete कर दूंगा।
                              ख्याल आये जो तेरे बाद किसी और का कभी ,
                               जहन को फिर से मै अपने यूँ ही Refresh कर लूँगा।
तुम्हारा प्यार कितना है मेरे दिल में दिखा दूंगा ,
अगर चाहो तो अपने दिल को मै Scan कर लूँगा।
                                 हमारा नाम अपने दिल में बस Insert कर लेना ,
                                 तेरी खातिर तो मै खुद को कभी Num Lock कर लूँगा।
करीब आओ मेरे दिल के तुम्हे खुशियाँ बड़ी दूंगा ,
तेरे हर गम को मै दिल से तुम्हारे Hack कर लूँगा।
                                    मेरी खातिर मेरी यादों को कभी Close ना करना ,
                                     तेरी हर बात को दिल में मै अपने Install कर लूँगा।
मुझे ना छोड़कर जाना कभी तन्हां इस System में ,
नही तो खुद को तेरे प्यार में Corrupt कर लूँगा।
                                       हमारी दोस्ती और प्यार को Start करके देख ,
                                       तेरी खातिर सभी की दोस्ती Turn Off कर दूंगा।
मेरी आँखों के Web Cam में फकत तू ही नज़र आये ,
तेरी खातिर जुदाई को भी मै Ctrl कर लूँगा।
                                         हमारे प्यार को फिर से कभी Rename देकर देख ,
                                         तेरे विश्वास को हर दम मै Save as कर लूँगा।
तू ''आमिर'' की मोहब्बत को सदा Turn On ही रखना ,
नही तो दिल से तेरे प्यार को Remove कर दूंगा। 

                                                          ''आमिर अली दुबई ,,  
दिल चाहता है

दिल चाहता है


हवा खुशनुमा वादियाँ भी हसीं हैं ,
तुझे याद करने को दिल चाहता है। 
                              मेरा आज सब दूरियों को मिटाकर ,
                              तेरे पास आने को दिल चाहता है।
ये तन्हाईयाँ रात भी चांदनी है ,
तेरे पास आने को दिल चाहता है। 
                               तुझे अपनी बाहों के घेरे में लेकर ,
                               कुछ सुनने सुनाने को दिल चाहता है।
वो नगमा जिसे सुनके तू मुस्कुराये ,
उसे गुनगुनाने को दिल चाहता है।
                                  मोहब्बत की सारी हदों को भुलाकर ,
                                  तुझे प्यार करने को दिल चाहता है।
सभी चाहतों के समंदर में ''आमिर ''
मेरा डूब जाने को दिल चाहता है।

                                                        ''आमिर अली दुबई ,,