Showing posts with label व्यंग्य. Show all posts
Showing posts with label व्यंग्य. Show all posts
Love of Film Actress

Love of Film Actress


                                फ़िल्मी हिरोइन और मोहब्बत :

फिल्मो में हम देखते है की हिरोइन एक गरीब की मोहब्बत में सब कुछ कुर्बान करती नजर आती है ,और अक्सर फिल्मो की स्टोरीज में यही दिखाया जाता है कि हिरोइन किसी गरीब से प्यार करके सारी दुनिया से बगावत करके उससे शादी कर लेती है ,अपनी तमाम अमीर आदतें निकलकर एक गरीब के साथ बिलकुल एक आम सी ओरत बनकर जिन्दगी गुजरने के लिए तैयार हो जाती है ,या फिर एक राजकुमार हीरो किसी गरीब कनीज़ कि मोहब्बत में अपना सब कुछ कुर्बान करके उसे पा लेता है ,ग्रेट है हमारी फिल्मे जिनमे गरीबो को इतनी तरजीह दी जाती है .उनसे मोहब्बत कि तालीम दी जाती है ,उंच नीच कि दीवारों को मिटने का पैगाम दिया जाता है .अमीरी गरीबी से ज्यादा प्यार को महान बताया जाता है ,कभी गरीब हीरो अमीर बनने के लिए किसी अमीर हिरोइन से प्यार कर लेता है ,और हिरोइन भी आसानी से उसकी मोहब्बत को दिलो जान से कबूल कर लेती है ,
कुछ हंसगुल्ले हो जाएँ ?

कुछ हंसगुल्ले हो जाएँ ?

मोदी के भारत के प्रधान मंत्री बनने के 3 साल बाद की जादुई ख़बरें।
1. ओबामा ने भारत आने के लिए वीजा माँगा ,लेकिन भारतीय मंत्रालय ने इससे किया इंकार।
2. भारतीय रूपए के आगे अमेरिकी डॉलर में भारी गिरावट।
3. विदेशों से भारत आने वाले मजदूरों की तादात में भारी बढ़ोतरी।
4. स्कूलों में पढ़ाया जाने वाला इतिहास ,नए सिरे से लिखा जाने लगा।
5. कश्मीर से भारतीय सैनिकों की वापसी ,उन्होंने कहा की अब तो आतंकवादी ही नही मिलते हम वहां क्या करें।
6. अरविन्द केजरीवाल ने बेरोजगारी से परेशान होकर रिलायंस में नौकरी कर ली।
7. भारतीय शब्द कोष में ''कांग्रेस '' शब्द तलाश करने  लिए विदेश से विशेषज्ञ बुलाये गए।
8. फेसबुक और ट्विटर को भारत सरकार ने ख़रीदा ,और अब इसे सिर्फ भारतीय ही यूज कर सकेंगे।
9. चीन की आर्थिक सहायता के लिए आगे आने वाले देशों में भारत सबसे आगे।
10. पाकिस्तान ने बिना जंग के ही कश्मीर भारत को सौंपा। इसके बदले में भारत ने उसे आर्थिक सहायता और प्रशिक्षित नेता दिए।
11. सैमसंग और एपल जैसी कम्पनियों में भारत में अपने मोबाइल्स और टेबलेट्स लॉन्च करने को लेकर भारी कम्पीटीशन। क्यों की पूरी दुनिया से मिलने वाला मुनाफा भारत में मिलने वाले मुनाफे का 25 % है।
12. भारत में आये अच्छे दिन देखने के लिए पर्यटकों की तादात में भारी बढ़ोतरी।
13. हर साल विदेशों से लाखों छात्र भारत में राजनितिक विज्ञानं पढ़ने के लिए आने लगे।
14. भारत में अवैध रूप से आने वाले 4 गरीब गिरफ्तार ,पूछताछ पर बताया की भारत गरीब ना होने के कारण विदेश से गरीब बुलवाने वाले एक गिरोह ने उन्हें बुलाया।
15. एक सर्वे के अनुसार मिली जानकारी है की दुनियां भर से भारत आने वाले पर्यटक ज्यादातर गुजरात का विकास देखने आते हैं।
16. भारत में अब चुनाव प्रक्रिया लगभग खत्म हो चुकी है ,क्यों की चुनाव के लिए कोई मुद्दे ही नही मिलते।
17. भारत ने विदेशों से पेट्रोल डीजल खरीदना बंद किया ,सूत्रों के मुताबिक अब गुजरात में पेट्रोल भी निकलने लगा है।


एक टेक्नीकल इंजिनियर इंटरव्यू के लिए गया ,तो उससे बॉस ने सवाल पूछा की गर्ल फ्रेंड और बीवी में क्या फर्क है।
तो उसने जवाब दिया की गर्ल फ्रेंड एक ट्रायल वर्जन है ,और बीवी फुल वर्जन।
जब गर्ल फ्रेंड का ट्रायल रिजल्ट आपको ज्यादा पसंद आये ,तो आप उसे शादी नामक एक्टिवेशन की लगाकर उसे फुल वर्जन बना सकते हैं।  शादी एक ऐसी एक्टिवेशन की है ,जिसे एक बार लगाकर हम लाइफ टाइम फ्री और फुल एक्टिवेट कर सकते हैं। फिर भी अगर फुल वर्जन बनाने के बाद भी अगर परेशानियों भरे एरर आते हैं ,तो फिर अदालत नामक कंट्रोल पेनल में जाकर तलाक नामक अर्जी देकर उसे रिमूव भी कर सकते हैं।


''डियर रीडर्स ये मैंने सिर्फ मनोरंजन के लिए लिखा है ,एक भारतीय नागरिक होने के नाते मुझे मेरे देश के संविधान पर गर्व है। '' किसी का दिल दुखाना मकसद नही।

                                                         ''आमिर अली दुबई ,,
आजादी का नाम है हम तो महंगाई में मर गये

आजादी का नाम है हम तो महंगाई में मर गये


देश की आजादी की खातिर कई भूख प्यास से मर गये ,
तो कितने सारे नवजवान जंग के मैदानों में मर गये। 
                                  अंग्रेज भारत को तोड़ने के अरमानो में मर गये ,
                                  अपनी नाकामियों के अफ्सानो में मर गये। 
देश आजाद हो गया सब खुशहाल हो गया ,
और शहीदाने वतन तलवारों में मर गये। 
                                     आज के नवजवान हैं करीना कैटरिना पे मर गये ,
                                     और कुछ आमिर सलमान और शाहरुख़ खान पे मर गये। 
एक देश का अन्ना है जो अनशन करता रहता है ,
एक तरफ ये नेता लोग भ्रस्टाचार में मर गये ,
                                     एक तरफ ये कांग्रेसी घोटाला घोटाला खेलते हैं ,
                                     दूसरी तरफ बीजेपी वाले पीएम पीएम में मर गये।
एक तरफ हिंदी फिल्मे करोड़ों रूपए कमाती हैं ,
दूसरी तरफ हम हिंदुस्तानी महंगाई से मर गये।
                                       हमारे नवजवान जो देश का भविष्य बनायेंगे ,
                                       आज देश के ये भविष्य चैटिंगों में मर गये।
पेट्रोल डीजल की कीमतों ने गाड़ियों को नाकारा किया ,
एक बेचारे रूपए हैं जो गिर गिर कर के मर गये। 
                                         बिजली की आँख मिचोली में गर्मी ने हाल ख़राब किया ,
                                         दूसरी तरफ पानी की किल्लत लोग प्यास से मर गये। 
ये कैसी आजादी है हमारा वतन पूछता है ,
उस सदी से ज्यादा लोग तो इस सदी में मर गये।     
                                         खाने पीने की कीमतों ने आँख में आंसू ला दिए ,
                                         गरीब अब भूख प्यास से नही कीमत सुनकर मर गये।
भ्रस्टाचार आतंकवाद बलात्कार अब आम हो गये ,
सरकार चलाने वाले अब तक शर्म से क्यूँ नही मर गये।
                                           आज अगर होते शहीदाने वतन इस दौर में ,
                                           कहते की हम क्यों इन बेकारों के लिए मर गये।
कहते हैं की आज के दिन हम आजाद हुए थे ,
आजादी का नाम है हम तो महंगाई में मर गये।
                                              है दुआ ''आमिर'' अमन कायम हो मेरे मुल्क में ,
                                             जिसकी आजादी की की खातिर लाखों लोग मर गये।



                                                          ''आमिर अली दुबई ,,

काश तुम कंप्यूटर होती।

काश तुम कंप्यूटर होती।

काश तुम कंप्यूटर होती 
तुम्हारे दिल की हार्ड डिस्क में अपनी मोहब्बत के कई फोल्डर बनाकर सेव कर देता।
तुम्हारी याद तुम्हारे साथ बीते हर हर लम्हे को सेव कर देता।
तुम्हारी छोटी बड़ी खताओं को डिलेट करके रिफ्रेश कर देता।
तुम्हारी हर छोटी बड़ी जरुरत की चीजों को नेट से ही डाऊनलोड कर देता।
जब तुम नाराज़ होतीं तो मै तुम्हे फिर से रिस्टार्ट करके रिफ्रेश कर देता।
तुम्हारे चेहरे के डेक्सटॉप पर अपनी तस्वीर सजाता।
तुम्हारे साथ वेब केम लगाकर तुम्हारी तकनिकी आँखों में अपनी सूरत देखता।
तुम्हारी वर्ड फाइल्स में तुम्हारे नाम तरह तरह के अंदाज़ में लिखता और और उनकी सुन्दरता बढ़ाता।
तुम्हारी एक्सेल फ़ाइल में जाकर तुम्हारे जरुरत की हर चीज़ का हिसाब करता।
तुम्हारी सुन्दर मुस्कान का जब चाहे प्रिंट निकाल लेता और अपने पास रखता।
एक प्रोब्लम ये जरुर हो जाती की तुम्हारे साथ किसी और से चैट नही कर सकता।
तुम्हे तरह तरह के वालपेपर से सजाता। 
किसी अच्छे एंटीवायरस से तुम्हारी सुरक्षा करता। 
हर समय तुम्हारे साथ गुजारता। तुम्हारे साथ खेलता ,तुम्हारे साथ पढाई करता। तुम्हारे साथ फिल्मे देखता।
हर रोज इंटरनेट से डाऊनलोड करके तुम्हे गिफ्ट्स देता,और तुम्हे खुश रखता। 
तुमसे जुदा होने ,बिछड़ने ,तुम्हारे गम में जलने का झन्झट ही ख़त्म हो जाता। 
जब भी तुम घुमने फिरने की फरमाइश करतीं तो तुम्हे इंटरनेट पर वर्ल्ड वेबसाइटस पर ही घुमा देता।
काश तुम कंप्यूटर होतीं। जब चाहे तुम्हारा दीदार कर लेता। जब चाहे जहाँ चाहे तुम्हे अपने साथ रखता। 
काश तुम कंप्यूटर होतीं। मगर ऐसा नही है ,शायद इसीलिए तन्हाई ,गम ,बेचैनी ,फुरकत यादें इन सभी से दो चार होना पड़ता है।

                                                                 ''आमिर दुबई...

बॉलीवुड के हमशक्ल चेहरे

बॉलीवुड के हमशक्ल चेहरे


आज हम बात करेंगे बॉलीवुड के कुछ हमशक्ल चेहरों की.जिनमे से कुछ तो सफल हुए और कुछ असफल.आइये इन हमशक्ल चेहरों के बारे में कुछ बात करते हैं.मिडिया ने कई बार इसका खुलासा किया.लेकिन अब तक ये बॉलीवुड स्टार्स इसका इनकार ही करते रहे.

                                                      केटरीना कैफ - जरीन खान 

बॉलीवुड की टॉप और सुपरस्टार हिरोइन केटरीना कैफ ,जिनकी सफलता और खूबसूरती के चर्चे भी आज काफी हैं.केटरीना फिल्मो में आने से पहले सिर्फ सलमान खान की दोस्त के रूप में पहचानी जाती थी.आज बॉलीवुड की सफलतम हिरोइन्स में इनका नाम आता है.और जरीन खान को भी सलमान खान ही अपनी फिल्म वीर के जरिये लाये.जरीन खान के फिल्मो में आते ही ये बहस भी चल पड़ी थी की जरीन केटरीना कैफ की हमशक्ल है.लेकिन जरीन यही मानती है की केटरीना उनसे ज्यादा खुबसूरत है.और वो कहीं से भी केटरीना की तरह नही दिखती.ये भी आप फोटो देख कर खुद ही फैसला कर सकते हैं.केटरीना के वीर फिल्म में काम करने से इनकार की वजह से ही जरीन को लाया गया.जब सलमान खान युवराज की शूटिंग कर रहे थे,उन दिनों जरीन उनसे ओटोग्राफ लेने गई थी.तब सलमान ने कहा था की ऑटो ग्राफ तो अब आपके लिए जायेंगे.उस वक्त जरीन इस बात को समझ नही पाई थी.जब उन्हें वीर में लिया गया ,तब जाकर उनके ये बात समझ में आई.

मधुबाला - माधुरी 

गुजरे ज़माने की सबसे खुबसूरत हिरोइन मधुबाला काफी सफल रही.उनके खूबसूरती के लिए उन्हें आज भी याद किया जाता है.जब माधुरी दीक्षित फिल्मो में आई तो उन्हें मधुबाला का हमशक्ल कहा गया.आप इन दोनों के चेहरे फोटो में देख सकते हैं.और माधुरी इससे आज तक इनकार ही करती रही.बल्कि माधुरी को इस ज़माने की मधुबाला भी कहा गया.


सोनाक्षी - रीना रॉय 
रीना रॉय भी अपने ज़माने की सफल हिरोइन रही है.जिसने कई फिल्मो में काम किया.और सोनाक्षी सिन्हा जो की फिल्म स्टार शत्रुघ्न सिन्हा की बेटी है ,को रीना रॉय का हमशक्ल कहा गया.हालाँकि एक ज़माने में शत्रुघ्न सिन्हा का नाम भी रीना रॉय से जोड़ा गया था.लेकिन रीना रॉय नही मानती की सोनाक्षी उनकी हमशक्ल है.फोटो देख कर आप खुद अंदाज़ा कर सकते हैं की ये बात कहाँ तक दुरुस्त है.


ऐश्वर्या रॉय -स्नेहा उल्लाल 
ऐश्वर्या रॉय जहाँ बॉलीवुड की फेमस हिरोइन रही हैं.वहीँ स्नेहा उल्लाल ने सिर्फ एक आद फिल्म में ही काम किया.स्नेहा उल्लाल को लेन का काम भी सलमान खान ने ही किया था.और ये उन दिनों की बात है जिन दिनों सलमान खान ऐश्वर्या के साथ डेट कर रहे थे.ऐश्वर्या रॉय ने समय के अभाव के कारण फिल्म लकी में सलमान के साथ काम करने से इनकार कर दिया था.इससे नाराज सलमान ने स्नेहा को ब्रेक दिया.हालाँकि स्नेहा को भी तलाश किया गया था.उन दिनों भी ये बहस जारी थी की स्नेहा उल्लाल ऐश्वर्या की हमशक्ल है.लेकिन सलमान खान इस बात से इनकार ही करते रहे.इसी तरह वीर के समय भी इनकार करते रहे की जरीन केटरीना की हमशक्ल है.

हर्मन बवेजा -ऋतिक रोशन 
ऋतिक रोशन फिल्मो में एक सफल अभिनेता रहे हैं.जबकि हर्मन बवेजा की पहचान सिर्फ प्रियंका चोपड़ा के बॉय फ्रेंड के रूप में ही ज्यादा रही.हर्मन को ऋतिक के हमशक्ल होने का भी कोई फायदा ना मिल सका.उन्होंने भी एक्का दुक्का फिल्मो में काम किया जो की सफल भी ना हो सकी.प्रियंका के कहने से फिल्मो में आये हर्मन ऋतिक की तरह सफल नही हो पाए.जब हर्मन की फिल्म लव स्टोरी 2050 रिलीज हुई थी ,उन दिनों में भी ये चर्चा चल पड़ी थी की हर्मन ऋतिक के हमशक्ल हैं.हालाँकि हर्मन भी इससे इनकार ही करते रहे.और प्रियंका भी इनकार करती रही.

हमशक्ल की बात पर हमेशा ही बॉलीवुड स्टार्स इनकार करते रहे ,और मिडिया को ही कोसते रहे.लेकिन मै सिर्फ इतना ही कहूँगा की ''ये पब्लिक है ये सब जानती है.''भारत की अवाम इतनी बेवकूफ नही है ,जो आखों देख कर भी आँखे बंद कर लें.
नेता और अभिनेता

नेता और अभिनेता


नेता और अभिनेता में किसी ज़माने में बहुत फर्क हुआ करता था.लेकिन आज इनकी बहुत सारी आदतें मिलने लगीं हैं.पहले अभिनेता एक्टिंग करते थे ,और आज कल नेताओं ने उनसे भी ज्यादा अच्छी एक्टिंग करनी शुरू कर दी.जब अभिनेताओं ने नेताओं को अपने से बेहतर एक्टिंग करते देखा ,तो उन्होंने सोचा की हम क्यूँ पीछे रहें ,ये लोग हमारी नक़ल करने लगे तो हम भी इनकी नक़ल करेंगे.जिस तरह नेता इलेक्शन के दिनों में कई बड़े बड़े काम सर अंजाम देते नजर आते हैं ,उसी तरह इनकी नक़ल करते हुए अभिनेता भी अपनी नई फिल्म की रिलीज के वक्त बिलकुल ऐसा ही करते नज़र आने लगे.इलेक्शन के दिनों में नेता अखबारों और मिडिया में सुर्खी बने नज़र आते हैं ,बिलकुल उनके नक़्शे कदम पर चलते हुए अभिनेता भी फिल्म की रिलीज के वक्त अखबार की सुर्खी और मिडिया में नज़र आने लगे.ये भी फिल्म की रिलीज से पहले कोई ना कोई काम ऐसे कर ही डालते हैं जिससे ये उन दिनों चर्चा में रहें ,नतीजा ,फायदा इनकी फिल्म को मिलता है.फिल्म बहुत ज्यादा बिजनस कर डालती है.नेता पहले इलेक्शन से पहले गाँव गाँव शहर शहर भटकते घर घर जाकर हाथ जोड़कर वोट मांगते थे ,बिलकुल इन्ही के नक़्शे कदम पर चलते हुए अभिनेता भी आजकल गाँव गाँव शहर शहर अपनी फिल्म के प्रमोशन के लिए भटकने लगे.इसका सबसे बड़ा फायदा ये होता है की उन दिनों ये बराबर सुर्ख़ियों में बने रहते हैं.और इसी वजह से इसका फायदा इनकी फिल्मो को मिल जाता है.जिस तरह नेता इलेक्शन से पहले किसी ना किसी मुद्दे को उठा देते थे ताकि इनकी पार्टी को इसका फायदा मिले ,बिलकुल यही काम अभिनेता भी करने लगे.कभी किसी मुद्दे को उठाकर ,तो कभी तरह से कभी कोई विवादास्पद बयान देकर तो कभी और बहाने से ये सुर्ख़ियों में बने रहना चाहते हैं.मजे की बात ये है की ये सब मुद्दे ,और तरह तरह की देश की बातें ये उनको इन्ही दिनों में याद आती हैं.जब अभिनेताओं ने नेताओं वाले कई सारे काम करने शुरू कर दिए ,तो नेता भी कहाँ पीछे रहने वाले थे ,इन्होने अभिनेताओं को रूपए देकर इलेक्शन के दिनों में अपनी पार्टियों के प्रचार के लिए लगा दिया.फिर नेताओं ने इन्हें रूपए देकर अपने बच्चों की शादियों में नाचने के लिए बुलाना शुरू कर दिया.बहरकैफ ,नेता और अभिनेता आजकल एक दुसरे की नक़ल करते हुए एक दुसरे के काम करते नज़र आने लगे.वो दिन भी दूर नही जब नेता भी फिल्मो में एक्टिंग करते नज़र आयें.क्यूँ की अभिनेताओं ने तो फिल्मो में ही सही नेता बनना तो शुरू कर ही दिया है.अब देखते हैं की नेता कब अभिनेता बने नज़र आने लगते हैं.


''आपको ये पोस्ट कैसी लगी ? अपनी राय निचे कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.और अगर आपको मोहब्बत नामा ब्लॉग पसंद आई ,तो आज ही ज्वाइन कर लीजिये ,और इमेल्स के जरिये नई पोस्ट्स प्राप्त कीजिये.

''आमिर दुबई.,,,


अक्ल बङी या भैंस

अक्ल बङी या भैंस


महामूर्ख दरबार में, लगा अनोखा केस 
फसा हुआ है मामला, अक्ल बङी या भैंस
अक्ल बङी या भैंस, दलीलें बहुत सी आयीं
महामूर्ख दरबार की अब,देखो सुनवाई
मंगल भवन अमंगल हारी- भैंस सदा ही अकल पे भारी
भैंस मेरी जब चर आये चारा- पाँच सेर हम दूध निकारा
कोई अकल ना यह कर पावे- चारा खा कर दूध बनावे
अक्ल घास जब चरने जाये- हार जाय नर अति दुख पाये
भैंस का चारा लालू खायो- निज घरवारि सी.एम. बनवायो
तुमहू भैंस का चारा खाओ- बीवी को सी.एम. बनवाओ
मोटी अकल मन्दमति होई- मोटी भैंस दूध अति होई
अकल इश्क़ कर कर के रोये- भैंस का कोई बाँयफ्रेन्ड ना होये
अकल तो ले मोबाइल घूमे- एस.एम.एस. पा पा के झूमे
भैंस मेरी डायरेक्ट पुकारे- कबहूँ मिस्ड काल ना मारे
भैंस कभी सिगरेट ना पीती- भैंस बिना दारू के जीती
भैंस कभी ना पान चबाये - ना ही इसको ड्रग्स सुहाये
शक्तिशालिनी शाकाहारी- भैंस हमारी कितनी प्यारी
अकलमन्द को कोई ना जाने- भैंस को सारा जग पहचाने
जाकी अकल मे गोबर होये- सो इन्सान पटक सर रोये
मंगल भवन अमंगल हारी- भैंस का गोबर अकल पे भारी
भैंस मरे तो बनते जूते- अकल मरे तो पङते जूते|



क्रपया ध्यान दें : ये कविता मेरी लिखी हुई नही है,ये किसी दोस्त ने भेजी थी मुझे पसंद आने की वजह से मै पोस्ट करके आप सभी तक पहुंचा रहा हूँ.लेकिन ये जिसने भी लिखी है मुझे अच्छी लगी.

आई लव यु टिप्पणी

आई लव यु टिप्पणी


                           ब्लोगर : आई लव यु टिप्पणी ...............( व्यंग्य )


ब्लोगर ने एक नई पोस्ट लिख कर ब्लॉग पर भेजी .लेकिन एक हफ्ता हो गया वो रोजाना अपनी ब्लॉग को चेक करता रहा ,कि शायद आज कोई टिप्पणी आई हो ? लेकिन कोई टिप्पणी नही आई .हालांकि फोलोवार्स की तादात भी ठीक ठाक है .तो ब्लोगर ने लिखा की मै इतनी मेहनत से लिखता हु ,लेकिन ये मेरे फोलोवेर्स कितने कंजूस है ,कम से कम एक टिप्पणी भी नही देते ,कि अच्छा लिखा है ,यानि यूँ समझिये की वो खामोश जुबान से ये कह रहे होते है की ''एक टिप्पणी का सवाल है बाबा ,कोई इश्वर के नाम पर एक टिप्पणी तो दे दो .लेकिन बिचारा जुबान से कुछ बोल नही पाता ,हाँ कभी कभी दिल की भड़ास निकाल भी देता है इस तरह
 '' आप सब को ये जानकर दुःख तो होगा की मै ब्लॉग छोड़ रहा हु ,बस यहीं तक का साथ था मेरा आप सब के साथ ,वगैरा .अब फोलोवेर्स पूछते है क्यों ? तो वो बड़े ही उदास दिल से जवाब देता है कि आप लोग टिप्पणी देने में बहुत कंजूसी करते है ,और मै आप लोगो के लिए रोजाना पोस्ट भेजता हु .फिर मेरे जैसे फोलोवार्स भी कह देते है कि हम आपकी पोस्ट पढ़ते है ,बस टिप्पणी नही लिखते ,क्यों कि टाइम नही मिलता ,हालाँकि कुछ तो  पूरा दिन फ़ालतू गुजारते है ,लेकिन बस सफाई देकर अपने ब्लोगर का दिल भी तो खुश करना होता है
न ?.